बालिका गृह से 26 बच्चियां गायब, मध्यप्रदेश में मचा हड़कंप, तीन अधिकारी सस्पेंड

Written by Subham Morya

Published on:

नई दिल्ली: Aanchal Balika Grah Story – इस समय पुरे देश में हड़कंप मचा हुआ है क्योंकि मध्यप्रदेश के एक अवैध बालिका गृह से 26 बच्चियां अचानक से गायब हो गई है। बच्चियों के गायब होने की खबर से पुरे इलाके में मड़कम्प मचा हुआ है और आला अधिकारीयों ने हाथ पांव फुले हुए है।

मामला भोपाल के परवलिया थाना क्षेत्र में संचालित एक बालगृह का है जहां से ये 26 बच्चियां गायब हुए हैं। हालांकि इस घटना के बाद में मुख्यमंत्री मोहन यादव का सोशल प्लेटफार्म एक्स पर ट्वीट आया जिसमे उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि सभी बच्चियों को ढूंढ निकाला गया है और सभी बच्चियां अभी बिलकुल सुरक्षित है।

लेकिन किसी बालिका गृह से अचानक से 26 बच्ची गायब हो जाती है और किसी को कानों कान उनकी खबर नहीं लगती है। ये अपने आप में एक बहुत बड़ी घटना है और इस घटना से ये पता चलता है कि हमारे समाज के बालिका गृह जैसी जगहों पर भी बच्चियां कितनी असुरक्षित हैं।

3 अधिकारीयों को किया सस्पेंड

जैसे ही इस घटना कि खबर आग कि तरह फैलने लगी और पुरे देश में इसकी चर्चा होने लगी तो मीडिया भी प्रशासन से सवाल पूछने लगा। आनन फानन में कलेक्टर ने तीन लोगों को सस्पेंड कर दिया और संस्था के कर्मचारियों पर अवैध रूप से बालिका गृह को चलाने को लेकर अब क़ानूनी कार्यवाही कि तैयारी कि जा रही है। सस्पेंड होने वाले अधिकारीयों में सीडीपीओ बृजेन्द्र प्रताप सिंह, सीडीपीओ कोमल उपाध्याय और सुपरवाइजर मंजूषा राज शामिल है और प्रशासन कि तरफ से इनके अलावा महिला बाल विकास अधिकारी सुनील सोलंकी और सहायक संचालक महिला बाल विकास रामगोपाल यादव को इस घटना के बाबत कारन बताओ नोटिस भी जारी कर दिया है।

सरकार कि नाक के निचे अवध रूप से बालिका गृह को चलाया जा रहा था और सरकार और प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं लगी ये अपने आप में एक बहुत बड़ी बात है। आज 26 बच्चियों के गायब होने के बाद में प्रशासन को ये पता चला है कि यहां को अवैध बालिका गृह चलाया जा रहा है। अब यहां सवाल ये भी उठता है कि इसकी क्या गारंटी है कि केवल आज ही 26 बच्चियां गायब हुई है। क्या इससे पहले और बच्ची यहां से गायब नहीं हुई होगी इसका जवाब भी अब प्रशासन को ढूंढ कर निकलना होगा।

पुलिस कि तरफ से आया बयान

पुलिस कि तरफ से बताया गया है कि इस बालिका गृह में 76 बालिकाओं का पंजीकरण किया गया है लेकिन मौके पर केवल 41 बालिका पाई गई। बाकि बच्चियां वहां पर नहीं पाई गई। बालिका गृह के प्रबंधन कि तरफ से इसको लेकर कहा गया कि बाकि कि सभी बच्चियां अपने परिवार के पास में वापस चली गई हैं।

पुलिस के द्वारा जब इसकी जानकारी निकली गई तो शुरुआत में केवल 12 बच्चियों का ही वेरिफिकेशन हो पाया लेकिन जैसे जैसे शाम होती गई वैसे वैसे बाकि कि बच्चियों का भी पता चल गया। भोपाल देहात एसपी प्रमोद कुमार सिन्हा कि तरफ से भी ये बयान आया है कि बालिका गृह में बच्चियां अपना पंजीकरण तो करवा लेती है लेकिन यहां आने के बाद में अगर उनका मन यहां पर नहीं लगता है तो वे वापस अपने परिवार के पास में चली जाती है और इस केश में भी यही हुआ है।

Subham Morya

मैं शुभम मौर्या पिछले 2 सालों से न्यूज़ कंटेंट लेखन कार्य से जुड़ा हुआ हूँ। मैं nflspice.com के साथ में मई 2023 से जुड़ा हुआ हूँ और लगातार अपनी न्यूज़ लेखन का कार्य आप सबसे के लिए कर रहा हूँ। न्यूज़ लेखन एक कला है और सबसे बड़ी बात की न्यूज़ को सही ढंग से समझाना ही सबसे बड़ी कला मानी जाती है और इसी कोशिश में इसको लगातार निखारने का प्रयास कर रहा हूँ।

For Feedback - nflspice@gmail.com
Join Our WhatsApp Channel

आपकी पसंद की ख़बरें

Leave a Comment