अगर करोगे लगातार इतने दिन को छुट्टी तो चली जाएगी नौकरी, देखिये छुट्टियों से जुड़े नियम क्या हैं?

By
On:
Follow Us

Employee Leave Rule: सरकार की तरफ से कर्मचारियों की छुट्टी को लेकर भी सवाल जवाब दिए है और इनको FAQ में जारी भी कर दिया है। इन छुट्टियों के नियमों से साफ साफ कहा गया है की जो कर्मचारी विदेशों में अपनी सेवाएं दे रहे है उनको छोड़कर किसी भी कर्मचारी को 5 साल से ज्यादा का अवकाश नहीं दिया जायेगा। इसके साथ ही सरकार की तरफ से चाइल्ड केयर लीव और पैटरनिटी लीव को लेकर भी दिशा निर्देश भी जारी किये गए हैं।

सरकार की तरफ से कर्मचारियों की छुट्टी के मामले में अपनी तरफ से सभी चीजों को पब्लिक के सामने रख दिया है। इस आर्टिकल में हम आपको सरकार के छुट्टी को लेकर क्या क्या दिशा निर्देश दिए गए हैं उनके बारे में डिटेल में बताया गया है। इसलिए आर्टिकल को आखिर तक जरूरर पढ़ना।

पांच साल की छुट्टी पर नौकरी ख़त्म

छुट्टी को लेकर कर्मचारियों का भ्रम दूर करने की कोशिश में सरकार ने FAQ जारी किया है जिसमे सभी वर्ग के कर्मचारियों की छुट्टियों के और उनकी सेवा से जुडी सभी शर्तों के बारे में डिटेल में बताया है। सरकार की तरफ से कर्मचारियों के अधिकारों के बारे में, अवकाश यात्रा रियायत के साथ साथ उनके ईएल नकदीकरण, पितृत्व अवकाश जैसे सभी मुद्दों पर पूरी तरह से सपस्ट जानकारी सरकार ने FAQ में दे दी है।

सरकार के द्वारा जारी किये गए FAQ के अनुसार कोई भी कर्मचारी यदि 5 साल से अधिक का अवकाश लेता है या इतने दिन के अवकाश पर रहता है तो उस कर्मचारी की सभी सेवाएं समाप्त मानी जायेंगी। इसमें विदेशों में अपनी सेवाएं देने वाले सभी कर्मचारियों को बाहर रखा गया है यानि की उन पर ये नियम लागु नहीं होते। इसके साथ ही पांच साल के लगातार अवकाश के कारण कर्मचारी का उसके पद से स्वयं इस्तीफा देना माना जायेगा।

अवकाश नकदीकरण के बारे में नियम

सरकार की तरफ से जारी FAQ में अवकाश नकदीकरण को लेकर कहा गया है की कर्मचारियों को पहले लीव इनकैशमेंट की मंजूरी ले लेनी चाहिए जो LTC के साथ उचित होगा। इसके साथ ही कुछ मामलों में अवकाश नकदीकरण निर्धारित समय के बाद भी किया जा सकता है।

महिला कर्मचारियों के लिए उसके बच्चे की देखभाल के लिए भी लीव दी जाती है। इसमें यदि महिला का बच्चा विदेश में पढता है और उसको उसकी देखभाल के लिए विदेश जाना है तो उसको प्रॉपर प्रक्रिया से गुजरना होगा और उसके बाद उसको छुट्टी दी जाएगी। इसके साथ ही यदि कोई कर्मचारी अपनी पढाई के लिए अवकाश चाहता है तो उसको अधिकतम 24 महीनो का अवकाश दिया जा सकता है।

24 महीने के अवकाश में कर्मचारी चाहे तो एक साथ भी अवकाश ले सकता है और चाहे तो जरुरत केहिसाब से भी अवकाश ले सकता है। इसके साथ ही मेडिकल से जुड़े करमचैयों के लिए ये सिमा 36 महीनो की रखी गई है।

शिशु देखभाल अवकाश भी केवल महिलाओं को ही बच्चे की देखभाल के लिए दिया जाता है। अगर बच्चा विदेश में पढ़ रहा है या महिला कर्मचारी को उसकी देखभाल के लिए विदेश जाना है तो कुछ जरूरी प्रक्रियाओं के बाद उसे यह छुट्टी मिल जाएगी। पोस्ट ग्रेजुएट की पढाई के लिए कर्मचारियों को जो की मेडिकल से पढाई कर रहे है उनको 36 महीने का अवकाश अधिकतम दिया जा सकता है।

Subham Morya

मैं शुभम मौर्या पिछले 2 सालों से न्यूज़ कंटेंट लेखन कार्य से जुड़ा हुआ हूँ। मैं nflspice.com के साथ में मई 2023 से जुड़ा हुआ हूँ और लगातार अपनी न्यूज़ लेखन का कार्य आप सबसे के लिए कर रहा हूँ। न्यूज़ लेखन एक कला है और सबसे बड़ी बात की न्यूज़ को सही ढंग से समझाना ही सबसे बड़ी कला मानी जाती है और इसी कोशिश में इसको लगातार निखारने का प्रयास कर रहा हूँ।

For Feedback - nflspice@gmail.com
Join Our WhatsApp Channel

Leave a Comment