₹13 हज़ार/क्विटल मंडी भाव – काला नमक चावल, किसान बनेंगे करोड़पति

Subham Morya
Subham Morya - Author
Kala Namak Chawal

Farmers News: Kala Namak Chawal – भारत में चावल की खेती बहुत अधिक मात्रा में की जाती है और देश के कई राज्य ऐसे हैं जहां पर केवल चावल को ही खाता जाता है। चावल की उपयोगिता और इसके गुणों के कारण वैज्ञानिकों ने बहुत चावल की बहुत सी किस्मों को ईजाद किया। ये किस्मे किसानो के लिए बहुत ही फायदे का सौदा होती जा रही है।

आज के इस आर्टिकल में आपको हम काला नमक चावल के बारे में बताने जा रहे है जिसकी खेती बिहार में बहुत अधिक की जाती है और आपको जानकर हैरानी काला नमक चावल की बाजार में कीमत बहुत अधिक है। जिसके कारण किसानो को मालामाल होने में ज्यादा समय नहीं लगता।

काला नमक चावल की डिमांड भारत के साथ साथ दुनियाभर के कई देशों में बढ़ती जा रही है। खेती कम होती है और डिमांड अधिक है तो इसके रेट भी बहुत अधिक हैं। इसकी डिमांड के साथ साथ इसकी खाशियत के बारे में जैसे ही किसानो को पता चलता है तो वे इसकी खेती शुरू कर देते है।

काला नमक चावल के फायदे क्या हैं

काला नमक चावल सेहत के लिए वरदान से कम नहीं है। काला नमक चावल में एंटीऑक्सीडेंट गुण बहुत अधिक मात्रा में होते है जिसके कारण बहुत सी बीमारियां शरीर में प्रवेश नहीं करती और इंसान को सेहतमंद रखने में बहुत अधिक सहायक होते है। काला नमक चावल के खाने के बाद शरीर में रोगप्रतिरिधक छमता बहुत अधिक बढ़ जाती है।

काला नमक चावल में आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन ई, विटामिन बी, कैल्शियम और जिंक भी काफी अधिक मात्रा में पाया जाता है। चावल की ये किस्म खेतों में बिना रासायनिक उर्वरकों के उगाए जाती है जजिसके कारण ये और भी अधिक फायदा देती है।

काला नमक चावल के बारे में अधिक जानकारी के लिए आपको यहां निचे दिए वीडियो को जरूर देखना चाहिए क्योंकि इस वीडियो को देखने के बाद आपके सभी सवालों के जवाब मिल जायेंगे।

काला नमक चावल वीडियो देखें


काला नमक (Black Rice) चावल की खासियत

काला नमक (Black Rice) चावल की खासियत ये है कि ये चावल साधारण चावल की तुलना में पैदावार भी अच्छी देता है और साथ में कोई भी कीटनाशक इसमें डालने की जरुरत नहीं पड़ती। काला नमक (Black Rice) चावल बहुत प्राचीन चावल की किस्म है जिसको भगवन बुध के ज़माने से ही बोया जाता रहा है।

काला नमक (Black Rice) चावल में साधारण चावल के पौधों में लगने वाले रोग जैसे तना सड़न या भूरा धब्बा पास भी नहीं आते। फसल में की भी बीमारी आने के चांस ना के बराबर होते है।

Share This Article
By Subham Morya Author
Follow:
मैं शुभम मौर्या पिछले 2 सालों से न्यूज़ कंटेंट लेखन कार्य से जुड़ा हुआ हूँ। मैं nflspice.com के साथ में मई 2023 से जुड़ा हुआ हूँ और लगातार अपनी न्यूज़ लेखन का कार्य आप सबसे के लिए कर रहा हूँ। न्यूज़ लेखन एक कला है और सबसे बड़ी बात की न्यूज़ को सही ढंग से समझाना ही सबसे बड़ी कला मानी जाती है और इसी कोशिश में इसको लगातार निखारने का प्रयास कर रहा हूँ।
Leave a comment