बाजार के उतार-चढ़ाव की लहरों पर सवार निफ्टी, निवेशकों के लिए सतर्कता का समय

By
On:
Follow Us

Share Market News: भारतीय शेयर बाजार की धड़कन निफ्टी इस सप्ताह भारी उतार-चढ़ाव का सामना कर रही है। शनिवार को निफ्टी ने 1.47 प्रतिशत की गिरावट के साथ 21,571.80 अंकों पर अपना सफर खत्म किया। इसके साथ ही, निफ्टी मिडकैप 100 इंडेक्स ने नई सर्वकालिक ऊंचाई को छूने में सफलता पाई, जो बाजार की अनिश्चितता को और भी बढ़ाता है।

सप्ताह के दौरान, व्यापारिक अवकाश की घोषणा ने भी बाजार को प्रभावित किया। यह छुट्टी महाराष्ट्र सरकार द्वारा अयोध्या में आयोजित राम मंदिर के ‘प्राण प्रतिष्ठा’ समारोह के कारण घोषित की गई थी।

HDFC सिक्योरिटीज के रिटेल रिसर्च उप प्रमुख, देवर्ष वकील के अनुसार, निफ्टी ने दैनिक चार्ट पर एक मंदी का पैटर्न विकसित किया है, जो निवेशकों के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने सुझाव दिया कि निफ्टी के 21,850 के प्रतिरोध स्तर को पार करने तक सावधानी बरती जाए। इसके समर्थन स्तर को 21,500 और 21,285 पर माना जा रहा है।

इसी तरह, HDFC सिक्योरिटीज के वरिष्ठ तकनीकी अनुसंधान विश्लेषक नागराज शेट्टी ने बताया कि निफ्टी का साप्ताहिक चार्ट मंदी के साथ बंद हुआ है, जो लंबे समय के बाद बाजार में नई ऊंचाई पर बिकवाली के दबाव का संकेत देता है। निफ्टी का शॉर्ट टर्म ट्रेंड भी अनिश्चितता से भरा हुआ है। शनिवार को इसमें मामूली बढ़त देखी गई, लेकिन आगे के बाजार के लिए कमजोर रुझान का अनुमान है।

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के अनुसंधान प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने इस हफ्ते के छोटे होने की वजह से बाजार में अनिश्चितता का माहौल होने की बात कही। अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह और गणतंत्र दिवस के अवसर पर छुट्टी के चलते ये हफ्ता छोटा है।

खेमका ने यह भी कहा कि व्यापारियों को सतर्क रहना चाहिए क्योंकि कमाई का मौसम पूरे जोरों पर है। इसके अलावा, बीओजे और ईसीबी की ब्याज दर निर्णय और अगले सप्ताह यूएस जीडीपी और पीएमआई डेटा आने वाला है, जिसका वैश्विक बाजारों पर प्रभाव पड़ेगा।

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने बताया कि कमजोर वैश्विक संकेतों और मिड-कैप तथा स्मॉल-कैप में हाई वैलुएशन के कारण बाजार में कमजोर प्रदर्शन देखा जा रहा है। मजबूत अमेरिकी खुदरा बिक्री और बढ़ती अमेरिकी बांड यील्ड ने फेड रेट में कटौती की उम्मीदों को कम कर दिया है, जिससे निवेशकों का ध्यान सुरक्षित बांडों पर केंद्रित हो गया है। चीन के आर्थिक डेटा ने कमजोर भावना में और योगदान दिया।

नायर ने यह भी कहा कि जहां निजी बैंकों का मुनाफा बाजार की उम्मीदों के अनुरूप है, वहीं निवेशकों ने जमा में उम्मीद से कम वृद्धि और एनआईएम में देखी गई गिरावट के कारण निराशा व्यक्त की है।

आईटी क्षेत्र का बेहतर प्रदर्शन इस सप्ताह के दौरान बैंकिंग स्टॉक में कमजोरी का मुकाबला करने के लिए पर्याप्त नहीं था। ब्याज दरों पर चिंता और शुरुआती तीसरी तिमाही के नतीजों से संभावित घरेलू आय में मंदी के संकेत के बीच एफआईआई ने जोखिम-मुक्त रुख बनाए रखा है।

इस तरह, निफ्टी की उतार-चढ़ाव भरी यात्रा निवेशकों के लिए सतर्कता का संकेत दे रही है। निवेशकों को इस अनिश्चितता भरे माहौल में अपने निवेश के फैसले सोच-समझकर करने चाहिए। बाजार की इन चुनौतियों के बीच, निवेशकों का सावधानी बरतना और अपने निवेश को संभालकर रखना आवश्यक है। यह समय उनके लिए अपनी रणनीति को फिर से समीक्षा करने और बाजार के जोखिमों को समझने का है। बाजार के इस उतार-चढ़ाव में, एक सावधानीपूर्वक और सोच-समझकर लिया गया निवेश निर्णय उन्हें सुरक्षित और सफल भविष्य की ओर ले जा सकता है। 

Subham Morya

मैं शुभम मौर्या पिछले 2 सालों से न्यूज़ कंटेंट लेखन कार्य से जुड़ा हुआ हूँ। मैं nflspice.com के साथ में मई 2023 से जुड़ा हुआ हूँ और लगातार अपनी न्यूज़ लेखन का कार्य आप सबसे के लिए कर रहा हूँ। न्यूज़ लेखन एक कला है और सबसे बड़ी बात की न्यूज़ को सही ढंग से समझाना ही सबसे बड़ी कला मानी जाती है और इसी कोशिश में इसको लगातार निखारने का प्रयास कर रहा हूँ।

For Feedback - nflspice@gmail.com
Join Our WhatsApp Channel

Leave a Comment