Post Office Scheme: हर महीने मिलेंगे 9250 रूपए गारंटी के साथ, पत्नी के नाम पर खोल दो ये खाता

Subham Morya
Subham Morya - Author
Post Office Scheme Every month 9250 with the institution, these two accounts are opened in the name of the wife

नई दिल्ली: Post Office Scheme – डाकघर की छोटी छोटी योजनाएं हमेशा से ही लोगों के लिए निवेश करने के लिए पहली पसंद रही है। डाकघर की ऐसी ही एक स्कीम है जिसमे पति और पत्नी के नाम से अगर आप खाता खुलवाते है और उसमे निवेश करते हैं तो आपको हर महीने 9250 रूपए की गारंटेड इनकम होती है।

डाकघर की इस स्कीम में ग्राहकों को अच्छा खासा रिटर्न दिया जाता है जिसके कारन से उनको हर महीने एक फिक्स इनकम (fixed income every month) दी जाती है। डाकघर में ये खाता पति और पत्नी के नाम से एक जॉइंट अकाउंट (joint account) होता है जिसमे एकमुश्त निवेश करना होता है और उसके बाद डाकघर की तरफ से गारंटी के साथ में हर महीने 9250 रूपए दिए जाते है यानि की आपकी एक तरह से हर महीने वेतन मिलने लगता है।

कौन सी स्कीम में मिलता है हर महीने पेंशन

डाकघर के द्वारा एक स्कीम चलाई जा रही है जिसका नाम है POMIS यानि की डाकघर मंथली इनकम स्कीम और इस स्कीम में निवेश करके आज लाखों लोग हर महीने एक तय निश्चित राशि पेंशन के रूप में प्राप्त कर रहे है। Post Office Monthly Income Scheme में एकल और सयुंक्त दोनों ही तरह के खाते खोलने की सुविधा ग्राहकों को दी जाती है।

Post Office Monthly Income Scheme में ग्राहकों को 5 साल के लिए केवल एक बार में ही निवेश करना होता है। सरकार की तरफ से ग्राहकों को और अधिक लाभ देने के लिए 1 अप्रैल 2023 से इस स्कीम पर ब्याज दर बढाकर 7.4 फीसदी कर दी गई है ताकि ग्राहकों को ज्यादा से ज्यादा फायदा मिल सके। इसके अलावा इस स्कीम में सरकार की तरफ से निवेश करने की सिमा भी बढ़ा दी गई है।

कैसे मिलती है मासिक पेंशन

डाकघर के द्वारा चलाई जा रही Post Office Monthly Income Scheme में ग्राहक अधिक से अधिक 9 लाख रूपए तक निवेश कर सकते है लेकिन अगर आप जॉइंट अकाउंट खुलवाते है तो आपको 15 लाख तक का निवेश करने की सुविधा दी जाती है। इस स्कीम में निवेश करने के बाद इसका रिटर्न आपको हर महीने दे दिया जाता है और जो आपका मूल रहता है वो 5 साल की मच्योरिटी (maturity) के बाद में वापस दे दिया जाता है। डाकघर की तरफ से हर महीने ब्याज का पैसा आपके डाकघर के खाते में ही जमा किया जाता है और आप चाहे तो उसको हर महीने निकाल सकते है और नहीं निकालेंगे तो वो जमा रहता है और उस पर भी ब्याज (interest) मिलता रहता है।

कैसे मिलेंगे हर महीने POMIS से 9250 रूपए

डाकघर में अगर आप Post Office Monthly Income Scheme के तहत एक जॉइंट अकाउंट खुलवाते है तो आपको 15 लाख रूपए अधिकतम निवेश करने का मौका दिया जाता है और इसमें 15 लाख रूपए पर आपको 7.4 फीसदी सालाना के हिसाब से ब्याज दिया जाता है। इस हिसाब से आपका साल भर का ब्याज (interest) 1 लाख 11 हजार रूपए बनता है जिसको डाकघर के द्वारा आपको हर महीने दे दिया जाता है। और 1 लाख 11 हजार को अगर हम 12 महीने के हिसाब से देखें तो ये 9250 रूपए हर महीने होता है।

इस स्कीम में जॉइंट अकाउंट में अधिकतम 3 लोगों को खाता खोलने की इजाजत होती है और उस खाते में ही आप 15 लाख रूपए का निवेश कर सकते है। दो लोगों के द्वारा खुलवाए गए जॉइंट अकाउंट (joint account) में भी आपको 15 लाख के निवेश की सिमा मिलती है लेकिन एकल खाते में ये सिमा डाकघर की तरफ से कम कर दी गई है।

समय से पहले POMIS से पैसे निकालने पर क्या होगा

अगर आपने डाकघर की Post Office Monthly Income Scheme के तहत खाता खुलवाया है और उसमे आपने एकमुश्त निवेश भी किया है लेकिन किसी कारण से आप समय से पहले ही अपने पैसे को निकलना चाहते है तो उसके लिए भी डाकघर (Post Office) की तरफ से नियम बनाये गए हैं। सबसे पहले तो आपको ये पता होना चाहिए की इस स्कीम में अगर आपने पैसा निवेश किया है तो निवेश करने के एक साल के बाद ही आप अपने पैसे को निकल सकते है इससे पहले नहीं निकल सकते।

इसके अलावा अगर आप अपने पैसे को 1 साल से 3 साल की अवधी के बीच में निकलते है तो डाकघर के द्वारा आपकी निवेश की गई राशि का 2 फीसदी पैसा काट लिया जायेगा और वहीँ अगर आप 3 साल से लेकर 5 साल के बीच में अपने पैसा को वापस लेना चाहते है तो ऐसे में डाकघर की तरफ से इस पैसे का 1 फीसदी काटकर आपको दे दिया जाता है।

POMIS में कौन कौन खाता खुलवा सकता है

डाकघर की POMIS यानि Post Office Monthly Income Scheme के तहत भारत का कोई भी नागरिक अपना खाता खुलवा सकता है। माता पिता अपने बच्चों के नाम से भी खाता खुलवा सकते है। इसके साथ ही बच्चे के नाम से खोले गए खाते को बच्चे की उम्र 10 साल की होने पर बच्चा खुद अपने खाते को संचालित कर सकता है। इस स्कीम में खाता खुलवाने के लिए पहले से ग्राहकों का डाकघर में बचत खाता होना अनिवार्य है और इसके साथ ही खाता खुलवाने के समय पर ग्राहकों को अपना आईडी प्रूफ देना होता है जिससे की ये पहचान की जा सके की ये भारत का ही नागरिक है।

Share This Article
By Subham Morya Author
Follow:
मैं शुभम मौर्या पिछले 2 सालों से न्यूज़ कंटेंट लेखन कार्य से जुड़ा हुआ हूँ। मैं nflspice.com के साथ में मई 2023 से जुड़ा हुआ हूँ और लगातार अपनी न्यूज़ लेखन का कार्य आप सबसे के लिए कर रहा हूँ। न्यूज़ लेखन एक कला है और सबसे बड़ी बात की न्यूज़ को सही ढंग से समझाना ही सबसे बड़ी कला मानी जाती है और इसी कोशिश में इसको लगातार निखारने का प्रयास कर रहा हूँ।
Leave a comment