प्राकृतिक तरीके से बढ़ाये पशुओ का दूध, एकदम सटीक उपाय

Vipin Yadav
Vipin Yadav - Author

जैसे जैसे गर्मी का मौसम आता है। पशुपालको को दूध उत्पादन को लेकर चिंता बढ़ने लगती है। क्योकि बढ़ते तापमान एवं बदलते वातावरण के चलते दुधारू पशुओ में दूध देने की क्षमता कम होने लगती है। जिससे पशुपालन में नुकसान होने की संभावना बढ़ जाती है। गर्मी के मौसम में गर्मी के चलते दूध उत्पादन में काफी असर होता है। ऐसे में दुधारू पशुओ को अच्छी देखभाल की जरुरत होती है। समय पर पानी की पर्याप्त मात्रा हरा चारा आदि की पूर्ति करना काफी जरुरी होता है। ताकि दूध का उत्पादन नियमित रूप से बना रहे। इसके साथ अन्य कुछ घरेलु नुस्खे अपनाकर भी आप पशुओ में दूध उत्पादन को बढ़ा सकते है। आइये जानते है।

दूध उत्पादन में देखभाल महत्वपूर्ण

चाहे वो भैंस हो या फिर गाय हो। दूध उत्पादन पशु की देखभाल पर काफी निर्भर करता है। आप जिस तरह से पशुओ की देखभाल करेंगे उसी प्रकार दूध उत्पादन क्षमता आपको पशुओ में देखने को मिलेगी। यदि सही से देखभाल होती है। समय पर पानी की पर्याप्त मात्रा, संतुलित चारा , हरे चारा आदि पशुओ को दिया जाता है। तो दूध उत्पादन में कमी नहीं होती है। लेकिन कई बार पशुओ को सही से देखभाल नहीं होने , तापमान अधिक होने , समय पर पानी की पर्याप्त मात्रा का न मिलना भी पशुओ में दूध उत्पादन को कम करता है।

दूध उत्पादन को बढ़ाने के लिए प्राकृतिक तरीके

लोबिया घास का नाम तो आपने सुना होगा। इस घास में काफी अधिक मात्रा में फाइबर, मिनरल, प्रोटीन होता है। जो पशुओ के शरीर में पोषक तत्वों की कमी को पूर्ण करता है। सबसे ख़ास बात ये है की नेचुरल तरीका है। जिससे पशुओ का दूध उत्पादन बढ़ता है और कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं होता है। लोबिया घास पशुओ को रोजाना खिलाने से पशुओ में दूध की मात्रा में बढ़ोतरी होती है । ये प्राकृतिक तरीका है। जिससे पशुओ के स्वास्थय के साथ खिलवाड़ किये बिना दूध उत्पादन को बढ़ाया जा सकता है। लोबिया घास में 17 से 18 फीसदी तक प्रोटीन होता है। और इस घास की आप खेती भी कर सकते है। इससे पशुओ के लिए हरे चारे की कमी भी नहीं होगी

लोबिया घास के लिए उत्पादन के लिए गर्म वातावरण की जरुरत होती है। और इसको किसी भी प्रकार की मिटटी में उगाया जा सकता है। पशुओ के लिए हरे चारे का इंतजाम करने के लिए ये अच्छा विकल्प होता है। पशुओ को लोबिया घास खिलाने के बाद अन्य प्रकार के पाउडर की जरूरत नहीं होगी। जो पशुओ के शरीर को ख़राब करते है। और पशु पालन करने वाले दूध उत्पादन को बढ़ाने के लिए इनका उपयोग करते है।

Share This Article
By Vipin Yadav Author
Follow:
विपिन यादव पिछले 5 सालों से न्यूज़ कंटेंट लेखन कार्य से जुड़ा हुआ है। nflspice.com के साथ में अप्रैल 2023 से इनकी यात्रा शुरू हुई है और लगातार अपनी न्यूज़ लेखन का कार्य आप सबसे के लिए कर रहे हैं। इन्होने बिज़नेस, कृषि, ऑटो और गैजेट बीट में काफी अनुभव प्राप्त किया है जिसको अब ये आपके साथ में शेयर करते हैं। इसके अलावा मंडियों से आने वाले रोजाना के भावों पर भी इनकी पकड़ काफी अच्छी है।
Leave a comment