EPFO खाता धारकों को सरकार का बड़ा झटका, बंद हुई ये सुविधा, कर्मचारियों की बढ़ेगी परेशानी 

By
On:
Follow Us
नई दिल्ली: EPFO Latest News Update – देश में प्राइवेट सेक्टर में काम कर रहे करोड़ों कर्मचारियों के लिए सरकार की तरफ से एक बड़ा झटका दिया गया है। इस समय करोड़ों ऐसे कर्मचारी देश में मौजूद हैं जिनका हर महीने सैलरी से EPFO में योगदान होता है और ऐसे में सरकार की तरफ से लिया जाने वाला ये फैसला उन सभी की परेशानी को बढ़ने वाला है।
EPFO की तरफ से देश के सभी कर्मचारियों को कोविद महामारी के कहते एडवांस में पैसे निकलने की सुविधा दी थी जिसको अब EPFO की तरफ से बंद कर दिया गया है। इसके बंद होने से अब कर्मचारियों को पैसे निकलने में काफी दिक्क्तों का सामना करना पड़ेगा। इकॉनिमिक टाइम्स में छपी एक खबर के अनुसार अब देश के सभी कर्मचारियों के लिए ये सर्विस बंद कर दी गई है।
आपको बता दें की सरकार या फिर EPFO की तरफ से इस प्रक्रिया को लेकर किसी भी प्रकार की कोई अधिसूचना जारी नहीं की गई है बल्कि वेबसाइट और पोर्टल पर दी गई सुविधा वाला लिंक हटाया जा रहा है ताकि कोई भी कर्मचारी अब आगे से पैसे निकलने के समय इस ऑप्शन का चुनाव ना कर सके।

EPFO Account Freeze को लेकर भी नए नियम

सरकार की तरफ से EPFO में शुरू किये गए ईपीएफओ कोविड एडवांस फंड विदड्रॉल में बदलाव के साथ साथ EPFO के खातों को फ्रीज़ करने की और डी-फ्रीज करने की समय सीमा में बदलाव किया गया है। अब कोई भी कर्मचारी नई SOP के अनुसार अपने खाते को फ्रीज़ या डी-फ्रीज करने के लिए अधितम 30 दिनों का समय ले सकता है। इस समय सीमा के अंदर ही कर्मचारियों को अपने खाते को वेरीफाई करवाना अनिवार्य कर दिया गया है। हालांकि इसमें 14 दिन के लिए एक्सटेंड करने का विकल्प भी सरकार की तरफ से दिया जा रहा है।

धोखाधड़ी को रोकने की कोशिश

सरकार और EPFO की तरफ सेजारी की गई नई SOP को लागु करने का मुख्य कारण है EPFO खातों में किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी से कर्मचारियों का बचाव करना और आपको बता दें की नई SOP के लागु होने के बाद में खातों का सत्यापन होगा और उसके बाद में केवल वही कर्मचारी अपने खाते से पैसे निकाल सकेगा जिसने सत्यापन की प्रक्रिया को पूर्ण किया है।
इसके लिए EPFO की तरफ से संदिग्ध खातों में लेनदेन की प्रकिया को पूरी करने के लिए कर्मचारियों को अपनी पहचान के लिए एमआईडी या यूएएन और प्रतिष्ठानों से सत्यापन करना अनिवार्य होगा। इसके साथ ही आपको बता दें की EPFO से देश के करीब 6 करोड़ लोग जुड़े हुए हैं और हर महीने अपनी सैलरी से EPFO में योगदान देते हैं।
EPFO भारत सरकार की तरफ से चलाई जा रही प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारी की एक सवहदा है जिसमे कर्मचारी हर महीने अपनी सैलरी से कुछ पैसे बचत के रूप में जमा करते हैं। जितने रूपए कर्मचारी जमा करते हैं उतने ही रूपए कर्मचारी की संस्था की तरफ से भी उनके खाते में जमा किये जाते है। इस पैसे पर सरकार की तरफ से काफी अच्छा ब्याज भी कर्मचारियों को दिया जाता है।

Subham Morya

मैं शुभम मौर्या पिछले 2 सालों से न्यूज़ कंटेंट लेखन कार्य से जुड़ा हुआ हूँ। मैं nflspice.com के साथ में मई 2023 से जुड़ा हुआ हूँ और लगातार अपनी न्यूज़ लेखन का कार्य आप सबसे के लिए कर रहा हूँ। न्यूज़ लेखन एक कला है और सबसे बड़ी बात की न्यूज़ को सही ढंग से समझाना ही सबसे बड़ी कला मानी जाती है और इसी कोशिश में इसको लगातार निखारने का प्रयास कर रहा हूँ।

For Feedback - nflspice@gmail.com
Join Our WhatsApp Channel

Leave a Comment